Hindi moral story of Fisherman And Fish


Hindi moral story of Fisherman And  Fish, short  moral Hindi story Kahani in Hindi,  moral stories in Hindi, village and villager Hindi the story, fishermen Hindi story, Hindi moral stories, Lion Hindi story, Hindi kahaniya, and village life



Fisherman And The Fish / मछुआरा और मछली


एक युवा महुआरा रहता था । वह प्रतिदिन अपनी नाव में बैठकर समुद्र में मछली पकड़ने जाता था । एक दिन जैसे ही उसने अपना जाल खींचा , उसे वह बड़ा ही भारी लगा । जब उसने जाल के अंदर देखा , उसे एक मछली दिखाई पड़ी ।
 
Hindi moral story of Fisherman And  Fish
Hindi moral story of Fisherman And  Fish

 कृपा करो मछुआरे , " मछली बोली " कृप्या , मुझे जाने दो । मछुआरा बहुत ही दयालु था । उसे बेचारी मछली पर दया आई । ठीक है वह बोला । उसने मछली को वापस पानी में डाल दिया ।


तुम्हारा धन्यवाद तुम महुआरे  तुम बहुत अच्छे आदमी हो , ” महली ने कहा । अगले दिन , मछुआरा फिर मछली पकड़ने आया । अचानक उसने एक आवाज़ सुनी । यह वही मछली थी जिसे उसने कल बचाया था ।




मछुआरे, मछुआरे,  कृप्या मेरे साथ आओ , " मछली बोली । कहाँ ? " मछुआरे ने पूछा । समुद्र के नीचे , " मछली ने उत्तर दिया । फिर मछली ने मछुआरे को अपनी पीठ पर बैठाया और तैरकर नीचे चली गई ।


वह तैरकर समुद्र ने नीचे पहुँची । समुद्र के नीचे एक सुन्दर महल था । मछुआरा मछली की पीठ से नीचे उतरा और महल के अंदर चल पड़ा । वहाँ उसे समुद्र का राजा मिला


तुम्हारा स्वागत है , नौजवान " , समुद्र के राजा ने कहा" मेरी , बेटी पर दया करने के लिए मैं तुम्हारा धन्यवाद करना चाहता हूँ । आपकी बेटी कौन है ? " मछुआरे ने पूछा ।


तुम अपने पीछे देखो ,राजा ने बोला । मछुआरे ने अपने पीछे एक सुन्दर राजकुमारी देखी । वह मछली वास्तव में एक सुन्द जवा राजकुमारी थी ।
क्या मैं सपना देख रहा हूँ ? " मछुआरे ने साचा


पर यह सपना नहीं था क्या तुम मुझसे विवाह करोगे ? " राजकुमारी ने पूछा मछुआरा राजकुमारी से विवाह हेतु बहुत खुश हुआ , उसे उससे प्यार हो गया | उस युवा मछुआरे का विवाह समुद्र की राजकुमारी से हो गया और वे हमेशा के लिए खुशी से रहने लगे ।




Story no-2


Hindi kahaniya and village life 





 भारत एक कृषि प्रधान देश है यहाँ अधिकतर लोग गाँवों में रहते हैं । कुछ गांव बड़े हैं , कुछ छोटे हैं । गाँव के अधिकतर लोग किसान हैं । यहाँ पर दुकानदार , लुहार , कुम्हार , बढ़ई और भी अन्य है ।

 
Hindi kahaniya and village life
Hindi kahaniya and village life
 किसानों को सुबह से शाम तक कड़ी मेहनत करनी पड़ती है । वे अपने खेतो में दिनभर काम करते है । वे सुबह जल्दी जाग जाते हैं और अपने बैलों के साथ अपने खेतों में पहुंच जाते हैं । वे अलग अलग तरह के फसल उगाते है   


गाव का जीवन बड़ा ही साधारण है । महिलाएँ खाना पकाती है । वे कुएँ से पानी खींचती हैं । गाँव के लोगों का भोजन स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है । वे मोटे कपड़े पहनते हैं । उनमें से अधिकांश अशिक्षित होते हैं । वे बहुत गरीब होते हैं , फिर भी वे खुश रहते हैं



 गाँव में मकान समान्यतः मिट्टी , फूस और लकड़ी से बने होते हैं । पगडंडी भी मिट्टी की बनी होती हैं । यहाँ पर कुछ मकान ईट बने हुए हैं । इनमें कस्बो की तरह सुख साधन नहीं है ।


गाँव के लोग बड़े धार्मिक है । वे अनेक देवी देवताओ की पूजा करते है उनमे से कुछ तो अशिक्षा के कारण बड़े ही अंधविस्वाशी है | फिर भी मुझे गाव का जीवन मुझे बहुत पसंद है 
Latest
Next Post
Related Posts